TFM…Find its presence in every soap

साबुन की गुणवत्ता के लिए सबसे महत्वपूर्ण फेक्टर है
टोटल फैटी मेटर यानी टीएफएम ।
साबुन मे जितनी अधिक टीएफएम की मात्रा होगी,
साबुन की गुणवत्ता उतनी अच्छी होगी ।उच्च टीएफएम
वाला साबुन बेहतर और ज्यादा शुद्ध होता है ।
दरअसल, साबुन मे टीएफएम और अघुलनशील पदार्थ
ही उसके हाथ धोने के साबुन और नहाने के साबुन का
मुख्य अंतर स्पष्ट करते है ।
भारतीय मानक ब्यूरो द्वारा मुख्यतः साबुन को
दो वर्गो मे बांटा गया है ।बाथिंग और टॉयलेट सोप ।
इसमे भी अलग-अलग केटेगरी है ।
जैसे टॉयलेट सोप को तीन श्रेणियो मे बाँटा गया है
जैसे ग्रेड 1,ग्रेड 2 और ग्रेड 3
76%या उससे अधिक टीएफएम युक्त साबुन को
ग्रेड 1 मे रखा गया है ।70 से 76% टीएफएम वाले
साबुन को ग्रेड 2 और 60 से 70% वाले टीएफएम
युक्त साबुन को ग्रेड 3 के रुप मेवर्गीकृत किया गया है।
अब अगली बार जब साबुन खरीदने जाये तो सिर्फ
सुगंध, पेकिंग ही न देखे, बल्कि साबुन पर अंकित
TFM कि मात्रा भी देखे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *